दर्द और रिश्ते- ShayariDilki

कितने दूर निकल गए,

रिश्तों को निभाते निभाते.. ShayariDilki

कितने दूर निकल गए,

रिश्तों को निभाते निभाते..

खुद को खो दिया हमने,

अपनों को पाते पाते..

लोग कहते हैं हम ” मुस्कुराते” बहुत हैं,

और हम थक गए दर्द छुपाते छुपाते..

खुश हूँ और सबको “खुश” रखता हूँ,

लापरवाह हूँ फिर भी सबकी परवाह करता हूँ..

मालूम है कोई मोल नहीं मेरा, फिर भी,

कुछ “अनमोल ” लोगों से “रिश्ता” रखता हूँ !!🤔🙏

By, Mr.Rajeshwar Prasad

Affiliate Disclosure: Hey There! Some links on this page are affiliate links which means that , if you choose to make a purchase, I may earn a small commission at no extra cost to you. I greatly appreciate your support.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *